दून, ऋषिकेश और हरिद्वार का प्रदुषण बढ़ा एनसीआर से ज्यादा, सीपीसीबी ने पेश करी हैरान करने वाली रिपोर्ट

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ताजा रिपोर्ट में हैरान करने वाले  तथ्य सामने आये है। 273 शहरों की केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की हवा की गुणवत्ता सूचकांक के निष्कर्षों ने देहरादून के बढ़ते प्रदूषण के स्तर को दर्शाया है – जिसमें देहरादून में नोएडा, कानपुर और गाजियाबाद जैसे बड़े शहरों से भी अधिक particulate matter (पीएम 10) का स्तर खराब है।

यह भी पढ़ें: इस देश के नागरिकों के पास पेसे तो हैं लेकिन खाने को कुछ नहीं, ऐसा यह भी पढ़ें: क्या हुआ वेनेज़ुएला में, जानिये वेनेज़ुएला क्राइसिस के बारे में.

गौरतलब है की यह रिपोर्ट केंद्रीय पर्यावरण मंत्री, वन और जलवायु परिवर्तन, हर्षा वर्धन ने  सांसद भैरों प्रसाद मिश्रा से  थी और राज्य स्तर पर यह रिपोर्ट पेश करने को कहा गया था ।

उत्तराखंड के निम्न शहरों के PM10 वैल्यू:

  1. देहरादून 241- जो कि ग़ाज़ियाबाद(235) और नॉएडा(176) से भी ज्यादा है ।
  2. हरिद्वार (12 9)
  3. ऋषिकेश (119)

ऋषिकेश और हरिद्वार का प्रदुषण मुंबई से भी ज्यादा है मुंबई का pm10 वैल्यू 119 है ।

इसी तरह, देहरादून का SO2 वैल्यू 26 है जो नोएडा (8), गाजियाबाद (15) कानपुर (7), मेरठ (7) और रांची (20) जैसे शहरों से अधिक है। पहाड़ी की राजधानी का NO2 वैल्यू 29 है जो लखनऊ (27), जोधपुर (23), नागपुर (26) और नासिक (27) से ज्यादा है।

Also read: Nations which can challenge India with their nuclear weapons

विशेषज्ञों का मानना है की यह बढ़ता प्रदुषण का कारण विक्रम (टेम्पो) और मिनी बस हैं, और इनका निवारण CNG बसों का इस्तेमाल करने से कम हो सकता है।

आपका क्या सोचना है हमारे उत्तराखंड में बढ़ते प्रदुषण को लेकर, कमेंट में जरुर बताएं, धन्यवाद।

Please follow and like us:

About the Author

PRIYANSHU JAKHMOLA

A "not at all serious" engineer, a technophile and a philanthropist. Knows 'f' of "few", wants to share it and grow it. Loves travelling and loves pahadi food.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *