Chhana Bilauri Geet

5 कुमाउँनी गीत जिन्हे सुनने से खुद को रोक नहीं पाओगे आप

छाना बिलौरी :

छाना बिलौरी बहुत ही खूबसूरत एवं मार्मिक गीत है, यह गीत बेटी की विदाई पर लिखा गया है, छाना बिलौरी एक जगह का नाम है जहा पर घाम(धूप) बहुत तेज़ होती है एवं बेटी पिता से शादी छाना बिलौरी न  करने की गुजारिश करती है।  हाल ही मैं पांडवास ग्रुप ने इस गाने का रीमेक बनाया है. वीडियो बहुत ही खूबसूरत है. विदाई का दृश्य दिल छू लेने वाला है.

Chhana Bilauri Geet

5 गढ़वाली गीत जो हैं हर भारतीय की पसंद

प्रमाण| गढ़वाली और कुमाउनी बोली नहीं ‘भाषा” हैं |

हाय तेरी रुमाला गुलाबी मुखुड़ी

हाय तेरी रुमाला गुलाबी मुखुड़ी, गोपाल बाबू गोस्वामी जी द्वारा गाया  गया बहुत ही ख़ूबसूरत कुमाउँनी गीत है।  इस गीत मैं गायक  स्त्री के सौन्दर्य की तारीफ कर  रहा है, यह वाकई दिल को छू लेने वाला गीत है.

haaye teri rumala
Image Source: route 99

आमे की डाली मॉ घुघूती न बासा

यह एक विरह गीत है, हमारे पहाड़ मैं घुघूती को विरह का प्रतीक माना जाता है एवं घुघूती पर कई गीत गाये गए हैं, कहते हैं जब घुघूती घुराणे लगती है तो अपने प्रिय की याद आने लगती है, इस गाने मैं प्रेमिका घुघूती से कह रही है की आम की डाली पर बैठ कर मत  गा तेरे इस तरह गाने से मुझे मेरे प्रेमी की याद आ रही है.

(घुघूती घुराण लगी मेरा मैत कि,घुघूती पर लिखा गया  एक और गाना जिसे एक महिला अपने मायके कि याद आने पर गा रही है, मेरी माँ भी घर मैं अक्सर यह गीत गाती हैं।। यह वाकई दिल को छू लेने वाला मार्मिक गीत है )

Image Source: euttaranchal

यह भी पढ़ें:

भारतीय चुनाव से जुड़े कुछ अविश्वनीय तथ्य जिन्हें आपने पहले कभी नहीं सुना होगा

उत्तराखंड की प्रसिद्ध महिलाएं जिन्होंने विश्व में मनवाया अपना लोहा

कैले बाजी मुरुली

गोपाल बाबू गोस्वामी जी द्वारा गाया गया एक और ख़ूबसूरत गीत जिसे एक महिला अपने पति के इंतज़ार मैं गा रही  है एवं देवी देवताओ  से अपने पति की सलामती की दुआ मांग रही है. हर वह महिला जो अपने पति से दूर है खुद को जोड़ पायेगी।

तुम परदेस परदेसी

संध्या झुकी आई, आई निर्मोही। तुम परदेस परदेसी। परदेसी प्रियतम की याद मैं लिखा गया बेहद खूबसरत गाना।

REALTED

क्या है आर्टिकल 370 और क्यों हटाना जरुरी हो गया है इसे कश्मीर से??

गढ़वाल राइफल के मेजर पर ऍफ़ आई आर | पूरी कहानी | सरकार है जिम्मेदार?

इतिहास में उत्तराखंड का इन नामों से है उल्लेख

 

Please follow and like us:

About the Author

Ashish Rawat

An Engineer by profession, thinker by choice and a pahari by birth. I am tech trainer and runs a coaching institute as well as an web development firm.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *